Barsaat Ke Mausam Mein Lyrics – अभी जिंदा हूँ तो जी लेने दो (Kumar Sanu)

Barsat Ke Mausam Me नई Bollywood Superhit गाना है, जिसे Kumar Sanu & Roop Kumar Rathod ने गाया है। इस गाने को Ajay Devgn, Juhi Chawla, Naseeruddin Shah ने लिखा है, जबकि Music को Anu Malik ने Composed है।

यह गाना  Tips Official  यूट्यूब चैनल द्वारा डिलीवर किया गया है।


More Details


Song Barsat Ke Mausam Me
Singer Kumar Sanu, Roop Kumar Rathod
Featuring Ajay Devgn, Juhi Chawla, Naseeruddin Shah
Lyrics Sudarshan Faakir
Music Anu Malik
Copyright Label Tips Official

बरसात के मौसम में हम्म..

तन्हाई के आलम में हम्म..

बरसात के मौसम में

तन्हाई के आलम में

मैं घर से निकल आया

बोतल भी उठा लाया

अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो

जी लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो

जी लेने दो

भरी बरसात में पी लेने दो

 

बरसात के मौसम में हम्म..
तन्हाई के आलम में हम्म..
बरसात के मौसम में
तन्हाई के आलम में
मैं घर से निकल आया
बोतल भी उठा लाया
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो

 

मुझे टुकड़ों में नहीं जीना है
कतरा कतरा को नहीं पीना है
हां मुझे टुकड़ों में नहीं जीना है
कतरा कतरा को नहीं पीना है
हो आज पैमाने हटा दो यारों
हां सारा मैखाना पिला दो यारों
मैं कदो में तो पीया करता हूँ
मैं कदो में तो पीया करता हूँ
चलती राहों में भी पी लेने दो
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो

 

मेरे दुश्मन हैं जमाने के गम
बाद पिने के ये होंगे कम
मेरे दुश्मन हैं जमाने के गम
बाद पिने के ये होंगे कम
हो ज़ुल्म दुनिया के ना सह पाउँगा
बिन पिये आज ना रह पाउँगा
मुझे हालात से टकराना है
मुझे हालात से टकराना है
ऐसे हालात में पी लेने दो
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो

आज की शाम बड़ी बोझिल है
आज की रात बड़ी कातिल है
हो आज की शाम बड़ी बोझिल है
आज की रात बड़ी कातिल है
हो आज की शाम ढलेगी कैसे
हां आज की रात कटेगी कैसे
आग से आग बुझेगी दिल की
आग से आग बुझेगी दिल की
मुझे ये आग भी पी लेने दो
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो

बरसात के मौसम में हम्म..
तन्हाई के आलम में हम्म..
बरसात के मौसम में
तन्हाई के आलम में
मैं घर से निकल आया
बोतल भी उठा लाया
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो
अभी जिन्दा हूँ तो जी लेने दो
जी लेने दो
भरी बरसात में पी लेने दो

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top