Jab Tak Pure Na Ho Phere Saat Lyrics – जब तक पुरे ना हो फेरे सात (Hemlata)

Jab Tak Pure Na Ho Fere Saat नई Bollywood गाना है, जिसे Hemlata ने गाया है। इस गाने को Ravindra Jain ने लिखा है, जबकि Music को Ravindra Jain ने Composed है।

यह गाना  Rajshri  यूट्यूब चैनल द्वारा डिलीवर किया गया है।


More Details


Song Jab Tak Pure Na Ho Fere Saat
Singer Hemlata
Featuring Sachin & Sadhana Singh
Lyrics Ravindra Jain
Music Ravindra Jain
Copyright Label Rajshri

बबुआ हो बबुआ पहुना हो पहुना !

बबुआ हो बबुआ पहुना हो पहुना !

हो ओ ओ .. हो ओ ओ ..!

जब तक पूरे ना हों फेरे सात

जब तक पूरे ना हों फेरे सात !

तब तक दुल्हिन नहीं दुल्हा की

हे तब तक बबुनी नहीं बबुवा की ना ..!

जब तक पूरे ना हों फेरे सात

अबही तो बबुआ पहली भंवर पड़ी है

अबही तो पहुना दिल्ली दूर बड़ी है

हो पहली भंवर पड़ी है दिल्ली दूर बड़ी है !

करनी होगी तपस्या सारी रात

जब तक पूरे ना हों फेरे सात

जब तक पूरे ना हों फेरे सात !

तब तक दुल्हिन नहीं दुल्हा की

हे तब तक बबुनी नहीं बबुवा की ना ..!

जब तक पूरे ना हों फेरे सात

जैसे जैसे भँवर पड़े मन अपनों को छोड़े

एक एक भाँवर नाता अन्जानों से जोड़े

मन घर अंगना को छोड़े अन्जानों से नाता जोड़े !

सुख की बदरी आँसू की बरसात

जब तक पूरे ना हों फेरे सात

तब तक दुल्हिन नहीं दुल्हा की

हे तब तक बबुनी नहीं बबुवा की ना ..!

जब तक पूरे ना हों फेरे सात

बबुआ हो बबुआ पहुना हो पहुना !

सात फेरे करो बबुआ भरो सात वचन भी

ऐसी कन्या कैसे अर्पण करते तन भी मन भी

सात फेरे करो बबुआ भरो सात वचन भी

ऐसी कन्या कैसे अर्पण करते तन भी मन भी !

उठो उठो बबुनी देखो देखो ध्रुव तारा

ध्रुव तारे सा हो अमर सुहाग तिहारा

हो देखो देखो ध्रुव तारा अमर सुहाग तिहारा !

सातो फेरे सात जन्मो का साथ

जब तक पूरे ना हों फेरे सात

तब तक दुल्हिन नहीं दुल्हा की

हे तब तक बबुनी नहीं बबुवा की ना ..!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top